गुरुवार, 3 नवंबर 2011

कठोपनिषद्


द्वितीय अध्याय 
तृतीय वल्ली


(पन्द्रहवाँ मन्त्र)
यदा सर्वे प्रभिद्यन्ते हृदयस्येह ग्रन्थयः।
अथ मर्त्योऽमृतो भवत्येतावद्धयनुशासनम् ॥१५॥

जब हृदय की समस्त ग्रन्थियाँ खुल जाती हैं, तब मरणशील  मनुष्य इसी शरीर में (इसी जीवन में) अमृत (मृत्यु से पार) हो जाता है। निश्चय ही, इतना ही उपदेश है।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें